Home HINDI यूपी के कैराना और नूरपुर उपचुनाव में बीजेपी के हार के क्या...

यूपी के कैराना और नूरपुर उपचुनाव में बीजेपी के हार के क्या मायने हैं

दरअसल कैराना सीट हुकुम सिंह के निधन के बाद खाली हो गई थी | जिस कारण बीजेपी ने हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को इस उपचुनाव में यहाँ से उम्मीदवार घोषित किया था | कैराना में आरएलडी उम्मीदवार तब्बसुम हसन ने बीजेपी की उम्मीदवार मृगांका को 44618 वोटों से हरा दिया | यूपी के नूरपुर विधानसभा सीट से समाजवादी पार्टी के नईम उल हसन ने बीजेपी उम्मीदवार अवनी सिंह को हराकर बीजेपी के गढ़ को अपना बना लिया है | बता दें कि यह सीट बीजेपी के लोकेन्द्र सिंह चौहान के निधन के बाद खाली हो गई थी | और इस सीट पर लोकेन्द्र सिंह की पत्नी अवनी सिंह बीजेपी उम्मीदवार बनकर लड़ रही थीं |

0
SHARE
Kairana BJP Loss, Phulpur BJP loss, Phulpur 2018 result, SP win 2018
Kairana-Phulpur BJP Loss

लोकसभा की चार और विधानसभा की दस सीटों पर हुए उपचुनाव के परिणाम गुरुवार को आने के बाद भाजपा सरकार में हड़कंप सी मच गई है | कारण यह है कि उत्तर प्रदेश के कैराना और नूरपुर उपचुनाव में बीजेपी को करारी हार का सामना करना पड़ रहा है | आखिरकार विपक्षी एकजुटता बीजेपी पर भारी पड़ती दिखाई दे रही है | यूपी के कैराना में विपक्षी याराना ने अपना जादू चला दिया है | हालाँकि उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ जी ने अपनी पार्टी के लिए चुनाव प्रचार भी किया पर सब धरा का धरा ही रह गया और बाजी मार दी आरएलडी की तब्बसुम हसन ने | जी हां कैराना में आरएलडी उम्मीदवार तब्बसुम हसन ने बीजेपी की उम्मीदवार मृगांका को 44618 वोटों से हरा दिया |

ALSO READ:  Dahi Handi Celebration: Facts and Guidelines for the Participants

Also Readआखिर क्या है ये निपाह वायरस और जानिए क्या है इससे बचने के उपाय

दरअसल यह सीट हुकुम सिंह के निधन के बाद खाली हो गई थी | जिस कारण बीजेपी ने हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को इस उपचुनाव में यहाँ से उम्मीदवार घोषित किया था | आरएलडी की तब्बसुम जीत के बाद बहुत खुश हैं और उन्होंने कहा कि यह उनकी एकजुटता की जीत है और वे इस जीत के लिए सभी का धन्यवाद करती हैं | उसी तरह, यूपी के नूरपुर विधानसभा सीट से समाजवादी पार्टी के नईम उल हसन ने बीजेपी उम्मीदवार अवनी सिंह को हराकर बीजेपी के गढ़ को अपना बना लिया है | बता दें कि यह सीट बीजेपी के लोकेन्द्र सिंह चौहान के निधन के बाद खाली हो गई थी | और इस सीट पर लोकेन्द्र सिंह की पत्नी अवनी सिंह बीजेपी उम्मीदवार बनकर लड़ रही थीं |

ALSO READ:  Government Unveils National ‘No-Fly’ List - Know The Conditions Before You Board-in

Also ReadAre the Government’s Zero Balance Accounts Helping the Beneficiaries?

हार के बाद अवनी सिंह ने कहा “हार स्वीकार है पर दुख नही है | हम जनता की शिकायत दूर करेंगे | बीजेपी ने जनता के लिए निःस्वार्थ सेवा की है |” फिलहाल उपचुनावों में बीजेपी को मिली हार उनके लिए 2019 में होनेवाले लोकसभा चुनावों के रास्ते और कठिन बनाते हुए दिख रही है | पीएम मोदी समेत बीजेपी के दिग्गज नेताओं को आत्ममंथन करना ही होगा क्योंकि विपक्ष एकजुट होकर बीजेपी को पस्त करने में लगी हुई है | हालांकि बीजेपी को वोटिंग तो अच्छी मिली पर विपक्षी एकजुटता उनकी इस हार का कारण बनी है | बता दें कि इस उपचुनाव में बीजेपी केवल चमोली जिले की पराली सीट एवं महाराष्ट्र के पालघर सीट पर ही जीत का परचम लहरा पाई है |

ALSO READ:  Kerala: Couple Kill Self to Prevent Eviction Process, Police starts Investigation

Also ReadIndia is Better than Pakistan in These Categories