Home WORLD कितनी खास है डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन की ऐतिहासिक मुलाकात

कितनी खास है डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन की ऐतिहासिक मुलाकात

डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के बीच करीब 50 मिनट तक वार्ता हुई | जब ये दोनों मिले तो पहली बार दोनों ने एक-दूसरे से हाथ मिलाया | ट्रम्प ने किम जोंग उन की पीठ भी थपथपाई | और इस वार्ता सम्मेलन में दोनों ने साथ में लंच भी किया | इस मुलाकात का मकसद ही था कि काफी सारे मुद्दों पर समझौते हो सके |

0
SHARE
Kim Jong Un and Donald Trump, Donald trump meeting singapore
Kim Jong Un and Donald Trump
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के किम जोंग उन की ऐतिहासिक मुलाकात सफल रही | इस बड़ी मुलाकात पर दुनिया के सभी देशों की नजर टिकी हुई थी | दो ऐसे देश जो कभी एक-दूसरे को देखना पसंद नही करते थे | जो एकदूसरे के कट्टर विरोधी माने जाते हैं, आज इन दोनों की महामुलाकात के मायने ही बदल गए | बताना चाहते हैं कि 65 सालों बाद इन देशों के नेताओं की मुलाकात इस तरह से हुई है | अमेरिका और उत्तर कोरिया के राष्ट्रपतियों की मुलाकात सिंगापुर के सेंटोसा द्वीप के एक होटल में हुई |

 

 
Do you know Virat Kohli’s New Enemy? Check out in this Video || Subscribe too ||

डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के बीच करीब 50 मिनट तक वार्ता हुई | जब ये दोनों मिले तो पहली बार दोनों ने एक-दूसरे से हाथ मिलाया | ट्रम्प ने किम जोंग उन की पीठ भी थपथपाई | और इस वार्ता सम्मेलन में दोनों ने साथ में लंच भी किया | इस मुलाकात का मकसद ही था कि काफी सारे मुद्दों पर समझौते हो सके | मुलाकात के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि जितना उन्होंने सोचा नही था उससे भी कई ज्यादा सफल उनकी यह मुलाकात रही है | उन्होंने कहा कि इतिहास का नया अध्याय शुरू हुआ है और यह एक अच्छी शुरुआत हुई है | किम जोंग से मिलकर उन्हें बहुत अच्छा लगा है और अब दोनों पुरानी कड़वाहट को भुलाकर साथ काम करेंगे और बड़ी से बड़ी समस्या को हल करेंगे |

 

 

साथ ही उत्तर कोरिया का पूरा ख्याल रखेंगे | ट्रम्प ने यह भी कहा कि युद्ध तो सभी करते हैं पर देश में शांति लाना ये तो बहादुर ही कर सकते हैं | तो वहीं किम जोंग उन ने भी कहा कि यहाँ तक पहुचना आसान नही था पर आपको बता दें कि इस मुलाकात में परमाणु हथियार निष्क्रिय करने पर भी समझौता हुआ जिसे किम जोंग उन ने मान लिया है | हम सभी के लिए इससे ज्यादा ख़ुशी की बात क्या होगी की धरती के दो दिग्गज़ राष्ट्रपतियों ने एक दूसरे से गले मिलकर सारे गीले-शिकवे दूर कर अमन और शांति की पहल की है | चलो इसी से तृतीय विश्व युद्ध के डर से दुनिया भर के लोगों को राहत भरी खबर मिल गयी |